बुधवार, 3 नवंबर 2010

हिवड़े रा भाव




हिवड़े रा भाव
सब्दां रै ढीले बंध में
कियां बाधूं  !
हिवड़े रा भाव मरम ढाळूं तो
 लिपि विखरे
मातरावां सूं नी ताबै
आखरां सूं आपळता
स्वरां नै नीं सांबळै
इण हिये रा भाव !
सूत्र बणा र सांवट ल्यूं
फर्मा में ही टीप द्यूं
रीत रिवाज सूं अळगा
गणित विज्ञान नी है
हिवड़े रा भाव
जो सोचूं
 वै कियां लिखूं
सोचां नै समझ समझावै
 थाम थाम र राखूं पण
म्हासूं धके भाज जावै
गोखां सूं झांक इ ल्यै
हिवड़े रा भाव
..किरण राजपुरोहित नितिला

3 टिप्‍पणियां:

  1. घणा ही सोणा भाव उतार दिया थ्हे कविता म्हे।

    दीवाळी री घणी घणी बधाई,
    कहतां नै, सुणता नै, ओर हुंकारु भरतां नै।
    राम राम

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीवाळी री घणी घणी बधाई......सोवणी रचना साझा करी थे ......

    उत्तर देंहटाएं